In Focus

कोलाबा का स्ट्रीट आर्ट में प्रयास

स्ट्रीट आर्ट की उत्पत्ति उस समय से हुई है, जिसे हमें समझना और खोजना अब भी बाकी है, लिखते हैं गजानन खेरगामकर 

हम मानव निर्मित भाषा, नामकरण और शब्दावली, इसके अलावा कागज और अन्य सरल और स्पष्ट मीडिया जैसे कि दीवार, आदि से सीमित हैं। आर्ट और विशेष रूप से स्ट्रीट आर्ट (Street Art), वह कला है, जिसे पारंपरिक माध्यम पर उत्पन्न किया जा सकता है लेकिन वह सार्वजनिक स्थानों (public space) तक फैला हुआ है।

यूरोपीय मोर्चे पर, जिसे गलत तरीके से एक विश्व मंच के रूप में समझा जाता है, यह फ्रांसीसी क्रांति (French Revolution) के भंजनकारी (iconoclasm) युग में था, जब विद्रोहियों ने फ्रांसीसी समाज के विषालु महान्तशाही का विरोध करने के लिए कीमती कला को विकृत कर दिया था। इसने भित्तिचित्र (graffiti) नामक एक विशिष्ट कला का जन्म हुआ जो वशहत (vandalism) का पर्याय बन गया।

यह राजनीतिक और आर्थिक अशांति की लहरें थीं जिसने दुनिया भर में स्ट्रीट आर्ट के विकास को गति दी: बर्लिन की दीवार की 'एक तरफा' भित्तिचित्र को एक तरफ रंगीन अभिव्यक्ति की लड़ाई के रूप में पेश किया जाना, दूसरी तरफ पूर्ण खालीपन के रूप में पेश किया जाना, यह एक सरल परिभाषा हुई।

इसलिए, यूक्रेन युद्ध शुरू होने के पांच महीने बाद, अगस्त 2022 की शुरुआत में फ्रांसीसी स्ट्रीट आर्टिस्ट जेम्स कोलोमिना ने न्यू यॉर्क के सेंट्रल पार्क में व्लादिमीर पुतिन की मूर्ति की स्थापना की, यह एक साहसिक कदम था। जेम्स कोलोमिना वह कलाकार है जो खुद को प्रकट नहीं करता है क्योंकि उसके अधिकांश कार्य "अनधिकृत" हैं और वह "पहले से ही अधिकारियों के साथ समस्याओं का सामना कर रहा है।"
भारत की वित्तीय राजधानी मुंबई में स्ट्रीट आर्ट परिदृश्य, रचनात्मक उत्साह की अनुपस्थिति में और राजनीतिक संस्थाओं द्वारा नियंत्रित होने की वजह से, कभी उनकी अनुमति पर निर्भर, बाकी दुनिया की तरह सहज रूप से बढ़ने में विफल रहा है।
आर्टिस्ट सपना पाटिल कहती हैं, "मैं प्रकृति, वास्तुकला और स्थानीय विरासत को दीवारों पर और शहर भर में सार्वजनिक स्थानों पर चित्रित कर रही हूं।" सपना मुंबई और उसके आसपास वास्तविक जीवन की विषयगत छवियों को चित्रित करने में शामिल रही हैं।

कोलाबा के बधवार पार्क में सपना पाटिल अपने द्वारा बनाई गई 'ट्रेन' के साथ (तस्वीर: मनु श्रीवास्तव / ड्राफ्टक्राफ्ट)
सपना को कोलाबा के बधवार पार्क की एक दीवार पर, जो फोर्थ पास्ता लेन को मच्छीमार नगर से जोड़ती है, एक वास्तविक प्रतीत होने वाली 'ट्रेन' की पेंटिंग के लिए जाना जाता है। रेलवे कॉलोनी से गुजरता हुआ यह रास्ता पहले एक बहुत ही दयनीय दिखने वाला मार्ग था। 

'ट्रेन' का विस्तृत चित्रण, खिड़कियों, सलाखों, सीढ़ियों, हैंडल तक से परिपूर्ण है। वह कहती हैं, ''काश मुझे उन मुद्दों पर पेंटिंग करने के और मौके मिलते जो लोगों को भी प्रभावित करते हैं।''
'हमेशा की तरह असुरक्षित' बधवार पार्क, जो दशकों से अंधेरे में पड़ा था, यहां तक ​​कि दिन के दौरान भी भिखारियों, नशा करने वालों से भरा हुआ रहता था, 'ट्रेन' के आने से बदल गया है। राहगीरों की भीड़ 'ट्रेन' को देखने के लिए और 'ट्रेन' के साथ सेल्फी लेने के लिए उत्सुक रहती है।
सपना पाटिल, जो खुद आगरी समाज की है, उसकी कृतियाँ मुंबई के सबसे पुराने ज़ोन में परिवर्तन और Changing Colours of Colaba का प्रतीक हैं जहाँ अन्य परिवर्तनों के साथ, सार्वजनिक दीवारों को ज़ोन की वास्तुकला और जीवन को दर्शाने वाले चित्रों के माध्यम से रंगीन मेक-ओवर दिया जाता है।

तथ्य की जानकारी ज़रुरी

मुंबई के ससून डॉक आर्ट प्रोजेक्ट के लिए दो महीने तक चलने वाला St+art Urban Art Festival 11 नवंबर 2017 को शुरू हुआ और 30 दिसंबर 2017 तक चला, जिसमें भारत के पहले वेट डॉक और मुंबई में स्थित सबसे पुराने डॉक, Sassoon Docks के श्रमिकों की संरचनाओं और छवियों की प्रदर्शनी थी।

ससून डॉक्स में St+art Urban Art Festival की एक झलक (तस्वीर: मनु श्रीवास्तव / ड्राफ्टक्राफ्ट)

इस उत्सव में "मुंबई का एक भूला हुआ स्थान, केवल अपने स्वयं की दुनिया में रहने वाले मूल कोलियों का घर" के रूप में Sassoon Docks को दर्शाया गया। सच तो यह है कि Koli 'मुंबई' के गठन के पहले से, कई पीढ़ियों से, यहाँ के मूल निवासी हैं जो अब अधिकतर कोलाबा के 'दूसरी तरफ' मच्छीमार नगर में रहते हैं और उस तरफ ही समुद्र में काम करते हैं, और ससून डॉक्स में व्यापार से बहुत कम लेना-देना है।

यथार्थ में ससून डॉक्स एक वाणिज्यिक उद्यम है जहां मछलियों को साफ किया जाता है, पैक किया जाता है और दुनिया भर के बाजारों में निर्यात किया जाता है। ससून डॉक्स कोली के अलावा पूरे भारत के कई समुदायों के लिए आजीविका प्रदान करता है। कोली समाज के लोग अधिकतर ससून डॉक्स से उपनगरीय मुंबई के बाजारों में बिक्री के लिए स्थानीय स्तर पर मछली खरीदते हैं। उत्सव में चित्रण गलत था जिसमे तथ्य और स्थानीय विवरण नहीं थे।

चर्चगेट रेलवे स्टेशन पर ब्राजील के चित्रकार एडुआर्डो कोबरा द्वारा बनाया गया गांधी भित्तिचित्र (तस्वीर: नंदिनी / ड्राफ्टक्राफ्ट)
उसी वर्ष, St+art फाउंडेशन, एशियन पेंट्स और पश्चिमी रेलवे की एक पहल के तहत, दक्षिण मुंबई के चर्चगेट रेलवे स्टेशन पर ब्राजील के कलाकार एडुआर्डो कोबरा ने महात्मा गांधी का ट्रेन से बाहर निकलने का एक बहुत बड़ा चित्र बनाया। यहां तक ​​​​कि 2018 में एक निरीक्षण के दौरान इसके अग्रभाग को फिट घोषित किया गया।

हालांकि, 2019 में मुंबई में एक चक्रवात के दौरान भित्तिचित्र का 81 फीट x 54 फीट का एक हिस्सा टूट गया और 62 वर्षीय एक पैदल यात्री पर गिर गया, जिससे उसकी मौत हो गई। पेंटिंग सहित पूरे अग्रभाग को अंततः पश्चिमी रेलवे द्वारा नीचे लाया गया।

प्रेरित करने के लिए कला बनाना

चित्रकार सचिता शर्मा
इसी तरह चंडीगढ़ की सचिता अदिति शर्मा का काम है जो अब उत्तर भारत में हिमाचल प्रदेश से काम करती है। "पंजाब के एक पूरे गांव को, ग्रामीणों को प्रेरित करने और उन्हें एक ऐसा जीवन दिखाने के लिए जो ड्रग्स से परे है, गोवा में दीवारों पर और हैदराबाद में अनेक स्थानों पर" चित्रन करने के बाद, सचिता अब पूरे भारत में काम करती है।

सचिता कहती हैं, "मैंने कचरे और मलमूत्र के साथ बिखरे शहरों में छोटे-छोटे कोनों और दीवारों को साफ किया है।" वह कहती है स्थानीय प्रशासन से 'अनुमति प्राप्त करने की' पूरी प्रक्रिया सार्वजनिक क्षेत्रों को सुंदर बनाने के उद्देश्य को हराती है।

दिल्ली के कलाकार और राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित रूप चंद का मानना ​​है कि कलाकारों की जनता को शिक्षित करने की क्षमता का पूरी तरह से उपयोग नहीं किया गया है। रूप चंद कहते हैं, ''कलाकार योगदान देने के लिए बहुत कुछ कर सकते हैं। बात सिर्फ इतनी है कि उनकी क्षमता का एहसास नहीं हुआ है।''

दिल्ली के चित्रकार और राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित रूप चंद
उन्हें लगता है कि सार्वजनिक स्थान पर चमकीले रंग के कचरे के डिब्बे पर एक सामाजिक संदेश देने से भी फर्क हो सकता है। “मैंने इसे व्यक्तिगत रूप से किया है और इसे काम करते देखा है। लोग वास्तव में संदेश को रोकते हैं, पढ़ते हैं और लेते हैं, ”वे कहते हैं।

सार्वजनिक दीवारों पर बिखेरा गया फिल्म उद्योग

मुंबई के पश्चिमी उपनगर बांद्रा की सड़कों से सटी दीवारें पुरानी हिंदी फिल्मों, भित्तिचित्रों और कार्यों को दर्शाती कला के कामों से पटी हैं, जो इस क्षेत्र को एक कला-प्रेमियों के स्वर्ग में परिवर्तित करती हैं। पेंटिंग आकार में प्रभावशाली रूप से विशाल हैं, रणनीतिक रूप से रखी गई हैं और सार्वजनिक स्मृति में एक अमिट छाप छोड़ने के लिए हैं।

स्ट्रीट आर्ट, जिसने मुंबई की सड़कों पर सुखद प्रदर्शन करना शुरू कर दिया है, उसको अधिकारियों द्वारा सुविधा प्रदान की गई है और स्थानीय राजनेताओं द्वारा इसकी देखरेख की जाती है। सभी अनुमतियों और प्राधिकरणों के साथ, यहां तक ​​कि उद्यम में शामिल NGOs के माध्यम से प्रदान की गई वित्तीय सहायता के साथ, मुंबई की स्ट्रीट आर्ट संघर्ष और संवेदनशीलता के मुद्दों की अनदेखी करती है जो कि अधिकांश अन्य विदेशी शहरों में सार्वजनिक दीवारों पर दिखाई देती है।

बांद्रा असंख्य भित्तिचित्रों (graffiti) और स्ट्रीट आर्ट का घर है (तस्वीर: मनु श्रीवास्तव / ड्राफ्टक्राफ्ट)
फ्रांसीसी स्ट्रीट आर्टिस्ट जेम्स कोलोमिना के विपरीत, जो सचमुच भूमिगत रहते हैं और अपनी या अपने परिवार की पहचान करने से भी इनकार करते हैं, मुंबई की सड़कों पर काम करने वाले कलाकार बिना किसी डर के, मीडिया में नियमित तौर पर दिखाई देते हैं। क्यों, उनमें से ज्यादातर कला शिक्षक, वाणिज्यिक कलाकार, कुछ आउट-ऑफ-वर्क पोस्टर कलाकार भी हैं, जिन्हें भारत की वित्तीय राजधानी में स्ट्रीट आर्ट में उछाल से आजीविका प्रदान की गई है।
मुंबई के सार्वजनिक स्थानों पर स्ट्रीट आर्ट में संघर्ष का कोई चित्रण नहीं है। यहां एक कलाकृति के राजनीतिक रूप से अनुचित होने या लोकलुभावन भावनाओं को नुकसान पहुंचाने की कम संभावना है, जब अधिकारियों द्वारा पूरी तरह से जांच किए जाने और पहले स्थानीय राजनेता की बारीक कंघी से गुजरना पड़ता है। 
और, भारत में स्ट्रीट आर्ट में यही अंतर है। ऐसा नहीं है कि यह अच्छा नहीं है या रचनात्मकता की कमी है। सिर्फ इतना है कि यह अलग है। रंगीन, फिर भी सामाजिक रूप से अप्रासंगिक।

भारत में दुनिया की बसे पुरानी कला

स्ट्रीट आर्ट के इतिहास के अध्ययन में, पहली शताब्दी ईसा पूर्व में स्ट्रीट आर्ट की जड़ों का पता लगाना गलत होगा, जब रोमन नागरिक सूखी ईंट की दीवारों पर एक-दूसरे को संदेश लिखते थे, जैसा कि सार्वजनिक डोमेन (public domain) या इंटरनेट में सुझाया गया है।
स्ट्रीट आर्ट के प्रति भारत का दृष्टिकोण टकराव के बजाय वर्णनात्मक और कथात्मक रहा है, खुद भारत की तरह ही, जो दुनिया भर में अपने अहिंसक, गुटनिरपेक्ष, गैर-विस्तारवादी स्वभाव के लिए जाना जाता है।
रिकॉर्ड के लिए, भीमबेटका में लगभग 30,000 साल पुराने रॉक शेल्टरों में गुफा चित्र, दुनिया की सबसे पुरानी मौजूदा सार्वजनिक कला (public art) का सबूत हैं और, भारत में, मध्य प्रदेश राज्य में, भोपाल से 45 किमी दक्षिण की दूरी पर है।

हाल ही में, 1957 में, खोजा गया यह परिसर भारत में प्रागैतिहासिक कला के सबसे बड़े भंडारों में से एक है। भीमबेटका शैलाश्रय भारत के कुछ सबसे पुराने चित्रों के लिए एक कैनवास जैसा है।

मध्य प्रदेश के भीमबेटका में सबसे प्राचीन 'स्ट्रीट आर्ट' (फाइल तस्वीर)

इनमें से अधिकांश गुफा की दीवारों पर चित्र लाल और सफेद रंग में किए गए हैं, जिसमें गायन, नृत्य, शिकार और वहां रहने वाले लोगों की अन्य सामान्य गतिविधियों जैसे विषयों और दृश्यों को दर्शाया गया है। माना जाता है कि भीमबेटका में सबसे पुराना गुफा चित्र लगभग 12,000 साल पहले यानी 8,000 ईसा पूर्व का है।

महाभारत में पांडव भाइयों के भीम के नाम पर भीमबेटका का नाम रखा गया है। दंतकथा कहती है कि वह इन गुफाओं के बाहर और पहाड़ियों की चोटी पर क्षेत्र के लोगों के साथ बातचीत करने के लिए बैठता था। गुफाओं का नाम इस दंतकथा से लिया गया है और शाब्दिक रूप से 'भीम के विश्राम स्थल' में अनुवादित होता है।

'स्ट्रीट' शब्द 'स्ट्रेटा' (strata) से लिया गया है, जो लैटिन भाषा में 'वाया स्ट्रैट' का एक संक्षिप्त रूप है। लैटिन का जन्म, भाषा के रूप में, लगभग 700 ईसा पूर्व हुआ था जबकि भीमबेटका में, स्ट्रीट आर्ट 8,000 ईसा पूर्व में अस्तित्व में था।

(Click here to read the English version of this article) 


वर्ल्ड स्ट्रीट आर्ट (World Street Art) पर पूरी रिपोर्ट डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें


लेखक: गजानन खेरगामकेर
इनपुट्स: मनु श्रीवास्तव, नंदिनी राव, सागरिका, अनुष्का सिंह और रितिका सेठ

यह रिपोर्ट  आर्ट ऑफ़ कॉज़ प्रोजेक्ट (The Art Of Cause Project) का हिस्सा है - ड्राफ्टक्राफ्ट इंटरनेशनल  (DraftCraft International) की एक पहल जो आर्ट प्रोजेक्ट्स और स्ट्रीट आर्ट अभियानों का प्रलेखीकरण करती है जो दुनिया भर में संघर्ष की स्थिति को सुधारते हैं और हल करते हैं

अगर आप द आर्ट ऑफ़ कॉज़ प्रोजेक्ट में शामिल होना चाहते हैं या वालंटियर बनना चाहते हैं, तो  volunteer@draftcraft.in पर संपर्क करें

द आर्ट ऑफ़ कॉज़ पब्लिकेशन के संस्करण में प्रदर्शित होने के लिए contact@draftcraft.in पर लिखें

Follow The Draft Colaba: Facebook | Twitter | Instagram | YouTube